मेरी कलम से

स्पष्ट सोच

49 Posts

15 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14921 postid : 601183

अंहकार मे डूबके नेता मत कर तू गुमान

Posted On: 15 Sep, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अंहकार मे डूबके नेता मत कर तू गुमान, सदा नहीं रहा अभिमान |
यह सब खेल समय का भैया, न चले कपट के धंधे |
एक समय ऐसा आवे , सारी ताकत धरी रह जावे ||
पिछली करनी जब याद आवे ,उसकी सोच दिल घबरावे |
नहीं किसी की चली एक सी , समय बड़ा बलवान ||
सदा नहीं रहा अभिमान……………….
यह ताकत तो आनी जानी , बदले शासक कुर्सी पुरानी |
बिना किस्ती कोई पार न पावे ,सारी ताकत धरी रह जावे ||
चुनाव महा समर जब आवे जनता अपना फैसला सुनावे |
सकट मे फस जाते प्राण, समय बड़ा बलवान ||
सदा नहीं रहा अभिमान……………….
जो बोएगा सो काटेगा , पापो को अपने चटेगा |
बाली बलि ओर कस छली , रावण सबसे महाबली ||
नाम निशान बचा न पाये , चले गये जैसे थे आए |
सत्यमार्ग पर चलने वाले ,पावे है सम्मान ||
सदा नहीं रहा अभिमान……………….
सदा नहीं रहा अभिमान……………….

अंजलि रूहेला
अंबेहटा पीर सहारनपुर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

seemakanwal के द्वारा
September 15, 2013

सुन्दर रचना . साभार नमन


topic of the week



latest from jagran